श्रीदेवी ने बड़े पर्दे पर निभाया नगीना का किरदार, फिर जो हुआ वो बन गया इतिहास... |
मनोरंजन

श्रीदेवी ने बड़े पर्दे पर निभाया नगीना का किरदार, फिर जो हुआ वो बन गया इतिहास…

मैं तेरी दुश्मन, दुश्मन तू मेरा, मैं नागिन, तू सपेरा,’ दिवंगत अभिनेत्री श्रीदेवी का ये गाना हम सब ने बचपन में कई बार जरूर सुना होगा। आज भी आपको ये सॉन्ग आसानी से सुनने को मिल जाएगा। लेकिन क्या आपको मालूम है कि श्रीदेवी का ये गाना किस मूवी का है।

इस गाने, फिल्म की कहानी और श्रीदेवी की एक्टिंग के दम पर नगीना एक पॉपुलर फिल्म बनी। ऐसे में आज हिट फिल्म, सुपरहिट किस्से में अदाकारा के करियर की सबसे बेहतरीन फिल्मों में से एक श्रीदेवी के बारे में विस्तार में बात की जाएगी और बताएंगे कि कैसे इच्छाधारी नागिन के किरदार में श्रीदेवी ने कैसे अपनी छाप छोड़ी।

जब बड़े पर्दे पर पहली बार दिखा श्रीदेवी का नागिन अवतार

70 के दशक में बेटी, गद्दार और संग्राम जैसी फिल्म बनाने वाले निर्देशक हरमेश मल्होत्रा ने साल 1986 में एक फिल्म बनाई, जिसका नाम नगीना था। सांपो को लेकर फिल्में बनाना का ट्रेंड इस मूवी के बाद आगे काफी आगे बढ़ा।

फिल्म नगीना में श्रीदेवी ने इच्छाधारी नागिन का रोल अदा किया और जिस शिद्दत के साथ उन्होंने इसे बड़े पर्दे पर उतारा उसे देखने के बाद हर कोई उनका दीवाना हो गया। नगीना में श्रीदेवी के अलावा सुपरस्टार ऋषि कपूर, अमरीश पुरी और सुषमा सेठ जैसे कलाकारों अहम भूमिकाओं में नजर आए थे।

read more- CG News: रायपुर विशाखापट्टनम पैसेंजर ट्रेन 6 दिन के लिए रहेगी रद्द…

बॉक्स ऑफिस पर चला नगीना का जादू

फिल्म नगीना श्रीदेवी की उस दौर की लगातार 7वीं सफल फिल्म रही। इस मूवी की कहानी को दर्शकों ने काफी पसंद किया, जिस तरह से श्रीदेवी इस मूवी में एक नागिन के रूप में शत प्रतिशत दिया, उसकी जितनी तारीफ की जाए उतनी कम है। यही कारण है, जो बॉक्स ऑफिस पर नगीना सुपरहिट साबित हुई।

इसके अतिरिक्त खलनायक के रोल में अभिनेता अमरीश पुरी ने भी अपने किरदार के साथ पूरा न्याय किया, जिसने इस मूवी की सफलता में बड़ा योगदान दिया। वहीं ऋषि कपूर ने अपने कैरेक्टर के अनुरूप उम्दा काम किया। आलम ये रहा फिल्म नगीना साल 1986 की सबसे बड़ी हिट मूवी में से एक रही।

श्रीदेवी को चुकानी पड़ी बड़ी कीमत

नगीना में इच्छाधारी के नागिन के रोल को बड़े पर्दे पर असरदार दिखाने के लिए श्रीदेवी ने खास तरह के आई लेंस पहने। जिसको लेकर लंबे अरसे तक ये चर्चा चलती रही कि ये लेंस नहीं बल्कि एक्ट्रेस की असली आंखें हैं। बताया जाता है कि इन लेंस को लगाकर काफी वक्त तक नगीना की शूटिंग करने की वजह से उनकी आंखों में परेशानी होने लगीं,

जिसकी वजह से उन्हें देखने में काफी दिक्कत होने लगी। इसके बाद श्रीदेवी को डॉक्टर का परामर्श भी लेना पड़ा, जिसकी वजह से लंबे वक्त तक उनका इलाज भी चला। ऐसे में फिल्मों में नागिन बनने की वजह से श्रीदेवी की काफी कीमत चुकानी पड़ी।

इस एक्ट्रेस ने ठुकराई नगीना

श्रीदेवी के अलावा जया प्रदा उस वक्त हिंदी सिनेमा की टॉप एक्ट्रेस में शुमार थीं। जितेंद्र की फिल्म तोहफा में श्रीदेवी और जया प्रदा को एक साथ देखा गया, लेकिन इसके बाद इन दोनों ही अभिनेत्रियों में आपसी खटास बढ़ गई।

श्रीदेवी से पहले नगीना का ऑफर जया को दिया गया, लेकिन नागिन थीम पर फिल्म होने की वजह से उन्होंने इस मूवी को ठुकराया दिया, क्योंकि उनको असल जिंदगी में सांपों से काफी डर जो लगता था। जया प्रदा के मना करने के बाद जब ये मूवी श्रीदेवी के पास पहुंची तो उन्होंने बिना देरी करते हुए इसके लिए हां कह दी और नगीना ने सफलता का एक नया इतिहास लिखा।

इस मूवी के बाद श्रीदेवी की किस्मत ऐसी चमकी कि हर कोई नागिन के रोल के आधार पर उन्हें फेवरेट मानने लगा, सिर्फ नगीना ही नहीं इसके बाद श्रीदेवी ने निगाहें मूवी में भी नागीन का रोल अदा किया, जोकि नगीना का सीक्वल था। 

Related Articles

Back to top button