Shocking News: पत्नी को मिली सरकारी नौकरी, पति का साथ छोड़ा, फिर... |
#Social

Shocking News: पत्नी को मिली सरकारी नौकरी, पति का साथ छोड़ा, फिर…



Jhansi. झांसी। उत्तर प्रदेश के झांसी में पत्नी ने नौकरी लगते ही पति को छोड़ दिया. पत्नी ने लेखपाल का नियुक्ति पत्र मिलते ही पति से अलग होने का फैसला सुना दिया. पीड़ित पति ने डीएम को प्रार्थना पत्र देकर मामले से अवगत कराया है. पति का नाम नीरज विश्वकर्मा है और उसकी पत्नी का नाम रिचा विश्वकर्मा है. नीरज ने मीडिया से बात करते हुए बताया कि आज से 5 साल पहले हम लोग मिले थे और हमने लव मैरिज की थी. मेरे पास शादी के कागजात मौजूद हैं, लेकिन अब मेरी पत्नी कहती है कि हमारी कोई शादी नहीं हुई है. नीरज ने बताया कि पत्नी ने लेखपाल की नौकरी लगते ही मुझसे संबंध तोड़ लिए हैं. पत्नी 18 जनवरी 2024 से मेरे साथ नहीं रह रही है. पत्नी को लेखपाल की नौकरी का नियुक्ति पत्र 10 जुलाई को मिला है. पत्नी की नियुक्ति झांसी नई तहसील में है. पत्नी किसी प्रकार का संपर्क नहीं कर रही है।
हमारा फैमिली कोर्ट में मुकदमा चल रहा है और पत्नी तारीख पर भी नहीं आ रही है. नीरज ने इस मामले से खुद को बहुत परेशान बताया और कहा कि मैं चाहता हूं, पत्नी घर आ जाएं और दोनों आराम से एक साथ रहें. नीरज के मुताबिक 6 फरवरी 2022 में दोनों ने कोर्ट में शादी की थी. बता दें कि उत्तर प्रदेश में ऐसा ही एक केस पिछले साल काफी सुर्खियों में आया था. तब, चतुर्थ श्रेणी के कर्मचारी पति आलोक मौर्य ने यूपी पीसीएस अधिकारी पत्नी ज्योति मौर्य पर साथ ना रहने और उससे जान का खतरा होने के आरोप लगाए थे. आलोक का कहना था कि उसकी पत्नी के होमगार्ड कमांडेंट मनीष दुबे के साथ अवैध संबंध भी थे. इस केस में लंबे समय तक पति-पत्नी ने एक-दूसरे के ऊपर आरोप लगाए. ज्योति ने पति पर दहेज उत्पीड़न का मुकदमा दर्ज करा दिया था तो वहीं आलोक ने ज्योति के पद पर दुरुपयोग और भ्रष्टाचार में लिप्त होने की बात कही थी।
झांसी के कलेक्ट्रेट में बुधार को डीएम नवनियुक्त लेखपालों को नियुक्ति पत्र बांट रहे थे। तभी सभागार के बाहर नीरज विश्वकर्मा अपनी बीवी ऋचा सोनी विश्वकर्मा को ढूंढते हुए वहां पहुंच गया। नीरज ने बताया कि 5 साल पहले एक दोस्त के माध्यम से उसकी मुलाकात ऋचा से हुई थी। दोनों की दोस्ती धीरे-धीरे प्यार में बदल गई और 6 फरवरी 2022 को दोनों ने कोर्ट मैरिज कर लिया। नीरज ने आगे बताया कि शादी के बाद भी दोनों एक-दूसरे के बिना नहीं रह पाते थे। वह पेशे से बढ़ई है लेकिन उसने ऋचा को सरकारी नौकरी की तैयारी करवाई और कोचिंग की फीस भरी।
नीरज ने बताया कि जब 2022 में यूपी लेखपाल पद की भर्ती निकली तो उसने खुद ही बीवी का फॉर्म भरा था। साल 2023 में परीक्षा हुई और ऋचा ने इंतहान पास कर लिया। उसके परीक्षा पास करने से घर में खुशियों की लहर दौड़ पड़ी। सबकुछ ठीक चल रहा था। लेकिन जनवरी 2024 में ऋचा कॉलेज जाने की बात कहकर निकल गई। लेकिन वापस नहीं आई। जिसके बाद नीरज पत्नी की खोजबीन में जुट गया। नीरज बीवी की तलाश करता हुआ ससुराल पहुंचा। जहां उसके न होने की बात कहकर सास-ससुर ने उसे वापस भेज दिया। इस पर नीरज ने पत्नी के लापता होने की जानकारी थाने में दी। जिस पर पुलिस ने ऋचा को कुछ घंटे में ही ढूंढ लिया। कोतवाली पहुंची ऋचा ने जो बताया उसे सुनकर नीरज के पैरों तले जमीन खिसक गई। ऋचा ने कहा कि वह लेखपाल बन गई है। जबकि पति कॉरपेंटर का काम करता है। ऐसे में दोनों का मेल नहीं है। नीरज का आरोप है कि लेखपाल बनने के बाद पत्नी ने उससे बातचीत बंद कर दी है। यहां तक कि उसका फोन भी नहीं उठाती है।

Related Articles

Back to top button