देश विदेश

जब हुई तीसरी बेटी का जन्म तो ससुराल वाले लगे मारने, पूर्व सीएम ने लिया संज्ञान

मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के पास तक जब तीन बच्ची पैदा होने का दंश झेल रही छतरपुर की महिला की बात पहुंची तो शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीटर पर एवं मीडिया को दिए बयान के साथ-साथ पीड़ित महिला से फोन पर बात की।

उसके बाद आनन फानन में थाने में पक्ष-विपक्ष के राजनेताओं का जमावड़ा लग गया और मामले का तूल पकड़ते देख पुलिस के आला अधिकारी भी हरकत में आए और आनन-फानन में महिला की सुनवाई करते हुए मामले का राजीनामा कराया और महिला एवं उसके पति को समझाइश देकर दोनों को अपने घर बच्चियों सहित वापस भेजा ।

गौरतलब है कि छतरपुर के देरी रोड पर रहने बाली सीता साहू नाम की महिला पिछले कुछ दिनों से अपने पति पुष्पेंद्र साहू एवं सास-ससुर पर आरोप लगा रही थी दो बेटियां के बाद हाल ही में 15 दिन पहले एक और बेटी के जन्म देने के बाद से घर में बवंडर खड़ा हो गया और पति एवं सास ससुर द्वारा मारपीट एवं घर से निकाल दिया था और बीच बचाव करने आई मेरी माँ के साथ मारपीट की गई थी जिनके सिर पर चोट भी है |

घटना के बाद महिला ने ससुराल पक्ष का विरोध करते हुए पहले एसपी कार्यालय गुहार लगाने गई मगर जब दो दिनों तक एसपी कार्यालय में शिकायत करने के बाद उसकी सुनवाई नहीं हुई तब महिला ने छतरपुर की नगरपालिका अध्यक्ष अर्चना सिंह से मुलाकात की तो नगरपालिका अध्यक्ष ने महिला की फोन से बात पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से कराई तब शिवराज सिंह चौहान ने महिला की पीड़ा को सुनते हुए हर संभव मदद का भरोसा दिया और ट्वीटर पर ट्यूट करने के साथ-साथ भोपाल में मीडिया को दिए इंटरव्यू में कहा कि सीता हमारी बहन है उसकी बेटिया है तो क्या हुआ उसको परेशानी नहीं आने दूंगा उसके परिवार बालो से बात करुगा इसके अलावा अधिकारियो से भी मदद कराऊंगा |

पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के ट्यूट एवं मिडिया को दिए इंटरव्यू देने के बाद छतरपुर पुलिस महकमे एवं राजनेताओं में खलबली मच गई और छतरपुर के सिविल लाइन थाने में पक्ष विपक्ष के नेताओं का जमावड़ा लग गया, पुलिस ने भी आनन-फानन में मामले को गंभीरता से लेते हुए महिला एवं उसके पति की बात को सुनकर अपना फैसला सुनाते हुए महिला एवं बच्चियों को साथ रखने के लिए सहमत कराया और मीडिया के सामने दोनों का राजीनामा कराते हुए मामले को शांत कराया गया ।

|

Related Articles

Back to top button