देश विदेशलाइफस्टाइल

छुहारे खाएं दूध के साथ, रखे आपको बिमारियों से दूर

छुहारे के फायदे अनगिनत होते हैं। सर्दियों में अक्सर आपने लोगों को बादाम,अखरोट और कई सारे ड्राईफ्रूट्स का सेवन करते देखा होगा। क्योंकि अधिकतर ड्राईफ्रूट्स की तासीर गर्म होती है, जो सर्दियों में शरीर को गर्म बनाए रखते हैं।

लेकिन आपने कभी ड्राईफ्रूट्स यानि बादाम, काजू, किशमिश और अखरोट के अलावा छुहारे के फायदे के बारे में सुना है। आपको बता दें कि छुहारा, खजूर के सूखने के बाद बनता है। प्राचीन काल से ही हमारे यहां लोग छुहारे का सेवन करते आ रहे हैं।

जहां गर्मियों में छुहारे के सेवन से शरीर में ऊर्जा बनी रहती है, तो वहीं सर्दियों में इसके छुहारे के फायदे बढ़ जाते हैं। क्योंकि ये शरीर को गर्माहट देने के साथ ही डायबिटीज, साइटिका, कब्ज समेत कई सारी गंभीर बीमारियों से भी बचाता है। आयुर्वेद में छुहारे के फायदे का विस्तृत रूप से उल्लेख मिलता है।

इसलिए आज हम आपको छुहारे के फायदे के बारे में बता रहें हैं। जिससे आप छुहारे का सेवन करके खुद को सेहतमंद बना सकते हैं और कई सारी गंभीर बीमारियों से छुटकारा पा सकते हैं।

छुहारे के फायदे

डायबिटीज़ (Diabetes)
डायबिटीज़(Diabetes)यानि शुगर की बीमारी में अक्सर लोगों को मीठा खाना मना होता है, लेकिन ऐसे में अगर सर्दियों या त्यौहारों पर मिठाई की जगह सीमित मात्रा में खजूर का हलवा या छुहारे का हलवा खाया जाए, तो वो नुकसान नहीं करेगा। क्योंकि छुहारे और खजूर प्राकृतिक रूप से मिठास लिए होते हैं और इनमें में गन्ने से बनने वाली चीनी के साइड इफेक्ट्स नहीं पाए जाते हैँ।

मासिक धर्म (Periods)
हर महीने महिलाएं मासिक धर्म (Periods) की समस्या का सामना करती हैं। जिसमें उन्हें पेट दर्द, कमर दर्द के साथ ही पैरों में ऐंठन की परेशानी से गुजरना पड़ता है। ऐसे में अगर रोजाना छुहारे का सेवन किया जाए, तो मासिक धर्म (Periods) के दर्द में आराम मिलता है। साथ ही मासिक धर्म खुलकर आता है।

साइटिका(Sciatica)
साइटिका(Sciatica) पैरों से लेकर कमर तक होने वाले दर्द को साइटिका कहा जाता है। कई बार साइटिका(Sciatica)के रोगियों में कमर से नीचे का हिस्सा या तो सुन्न हो जाता है या उस में सूजन आ जाती है। ऐसे में अगर साइटिका(Sciatica)के रोगी नियमित रूप से छुहारे का सेवन करते हैं, तो इसमें लाभ मिलेगा। लेकिन साइटिका(Sciatica) के दर्द को पूरी तरह से खत्म करने के लिए एक्सरसाइज और डाइट का भी रखना जरूरी है।

रक्तचाप(Blood Pressure)
अगर आप बार-बार घटते(कम)रक्तचाप (Low Blood Pressure) की बीमारी से परेशान है, तो आपको नियमित रूप से 3-4 छुहारे को गर्म पानी में धोकर, फिर गुठली निकाल दें। इसके बाद गाय के गर्म दूध के साथ उबाल लें। उबले हुए दूध को सुबह-शाम सेवन करने से कुछ ही दिनों में कम रक्तचाप(Low Blood Pressure) से छुटकारा मिल जाएगा।

कब्ज (Constipation)
अगर आप रोजाना कब्ज (Constipation) की बीमारी समस्या से परेशान रहते हैं। तो इसे दूर करने के लिए बस सुबह-शाम 3 छुहारे खाने के बाद गर्म पानी पी लें, कब्ज (Constipation) में आराम मिलेगा।

बिस्तर पर पेशाब (Urine on bed)
आपका बच्चा भी रात को सोते समय अक्सर बिस्तर पर पेशाब (Urine on bed) कर देता है। तो इस समस्या को खत्म करने के लिए आपको बच्चे को रोजाना दिन में 2 छुहारे खिलाएं या रात को छुहारे वाला दूध पिलाएं। इससे शरीर में ताकत भी आती है।

खांसी (Cough)
सर्दियों में अक्सर ठंड की वजह से लोगों को खांसी (Cough) हो जाती है। ऐसे में अगर छुहारे को घी में भूनकर दिन में 2-3 बार सेवन करें। तो खांसी, छींक, जुकाम और बलगम में राहत मिलती है।

आंखों के रोग(Eye Disease)
आंखों में इंफेक्शन की वजह से कई बार सर्दियों में आंखों के रोग(Eye Disease) यानि गुहेरी निकल आती है। तो ऐसे में खजूर या छुहारे की गुठली का लेप बनाकर गुहेरी वाली जगह पर लगाने से आराम मिलता है। इसके साथ ही लगातार छुहारे का सेवन करने से रात में न दिखने वाली परेशानी में भी लाभ मिलता है।

सांस की बीमारी (Respiratory Disease)
सर्दियों में अक्सर लोगों को ठंड की वजह से सांस लेने में दिक्कत महसूस होती है। जिसे आप रोजाना छुहारे का सेवन करके आसानी से खत्म कर सकते हैं। क्योंकि छुहारे खाने से फेफड़े मजबूत बनते हैं।जिससे सांस की बीमारी (Respiratory Disease) में राहत मिलती है।

एलर्जी (Allergy)
सर्दियों में ठंड की वजह से कई लोगों के शरीर में इंफेक्शन की वजह से एलर्जी (Allergy) हो जाती है। ऐसे में अगर आप छुहारे और खजूर का सेवन करते हैं, तो इससे कुछ ही दिनों में आराम मिलता है। क्योंकि छुहारे में ऑर्गेनिक सल्फर पाया जाता है। जो मौसम के बदलने पर होने वाली एलर्जी (Allergy) को रोकता है। 2002 में हुई एक स्टडी के मुताबिक इस में पाए जाने वाले सल्फर कंपाउंड से एलर्जी (Allergy) जैसी कई बीमारियां को जड़ खत्म करने में सहायक होता है।

|

Related Articles

Back to top button