देश विदेश

क्या कर-नाटक का इतिहास दोहराएगा मध्यप्रदेश ?

कर्नाटक में एचडी कुमारस्वामी के कांग्रेस-जेडीएस सरकार आखिरकार कल हाई वोल्टेज सियासी ड्रामें के बाद गिर गई है. मंगलवार को हुए विश्वास मत में गठबंधन सरकार के पक्ष में 99 वोट पड़े, जबकि विपक्ष में 105 वोट पड़े. वहां अब बीजेपी की सरकार बनना तय है। जल्द ही भाजपा कर्नाटक में सरकार बनाने का दावा कर सकती है।

वहीं कर्नाटक प्रकरण पर राहुल गांधी ने कहा, ‘लालच आज जीत गया. लोकतंत्र, ईमानदारी और कर्नाटक के लोग हार गए.’

बता दें कि कर्नाटक के बाद अब मध्य प्रदेश को लेकर भी सियासी चर्चाएं तेज हैं. मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा,

‘हम यहां (मध्य प्रदेश) की सरकार के पतन का कारण नहीं बनेंगे, कांग्रेस के नेता स्वयं अपनी सरकारों के पतन के लिए जिम्मेदार हैं. कांग्रेस में एक आंतरिक संघर्ष है, और बीएसपी-एसपी का समर्थन है, अगर ऐसा कुछ होता है तो हम कुछ नहीं कर सकते.’

वहीं मध्य प्रदेश की कमलनाथ सरकार में मंत्री और कांग्रेस नेता जीतू पटवारी ने दावा किया है कि यहां कर्नाटक जैसा कुछ नहीं होगा. उन्होंने कहा,

‘भाजपा ने हमारे लिए समस्याएं पैदा करने के लिए सब कुछ किया है, लेकिन यह कमलनाथ की सरकार है, कुमारस्वामी की नहीं, उन्हें इस सरकार में हॉर्स ट्रेडिंग करने के लिए सात जन्म लेने होंगे.’

बीते दिनों मुख्यमंत्री कमलनाथ ने एक कार्यक्रम में कहा था, ‘अगर बीजेपी में हिम्मत है, तो उन्हें मेरी सरकार गिराने की कोशिश करनी चाहिए. वह केवल बड़ी-बड़ी बातें क्यों कर रहे हैं?’ जब उनसे पूछा गया कि मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और भाजपा नेता कैलाश विजयवर्गीय ने दावा किया है कि वे कमलनाथ की सरकार को कभी भी गिरा सकते हैं, तो इस पर कमलनाथ ने कहा,

‘क्या वे (भाजपा नेता) मेरी सरकार पर दया कर रहे हैं? मध्य प्रदेश के लोगों ने राज्य में कांग्रेस की सरकार का चुनाव करके अपनी पसंद जाहिर की है. वे (भाजपा नेता) अपनी पार्टी के कार्यकर्ताओं का मनोबल बढ़ाने के लिए ऐसी बातें कहते हैं.’

|

Related Articles

Back to top button