देश विदेश

कैप्टन अमरिंदर – नवजोत सिद्धू विवाद पहुंचा प्रधानमंत्री मोदी तक

पंजाब में मंत्रिमंडल में फेरबदल और सिद्धू के इस्तीफे का विवाद अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तक पहुंच गया है। मोदी से मुलाकात कर मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर ने साफ तौर पर कहा कि सिद्धू काम नहीं करना चाहते जबकि उन्हें एक महत्वपूर्ण विभाग की जिम्मेदारी सौंपी गई है।

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने कहा कि यदि नवजोत सिंह सिद्धू अपना काम नहीं करना चाहता तो वह इसमें कुछ नहीं कर सकते। मुख्यमंत्री ने कहा कि मंत्री को धान के सीजन के महत्वपूर्ण समय काम बीच में ही छोडऩे की बजाय नया विभाग स्वीकृत करना चाहिए था। उन्होंने कहा कि सिद्धू को विभाग दिया गया था जिसको उसके द्वारा स्वीकृत करके अपना काम करना चाहिए था।

कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने कहा, ‘‘यदि सिद्धू काम नहीं करना चाहता तो वह इसमें क्या कर सकते हैं।’’ उन्होंने सवाल किया कि जरनैल द्वारा सौंपा गया काम करने से एक सिपाही कैसे इन्कार कर सकता है। मुख्यमंत्री ने कहा कि यदि सरकार की कार्यवाही कारगर ढंग से चलानी है तो इसमें कुछ अनुशासन भी होना चाहिए। यह पूछे जाने पर क्या सिद्धू ने फिर सुलह सफ़ाई की कोशिश की है तो मुख्यमंत्री ने कहा इसकी कोई ज़रूरत नहीं है। एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा,‘‘मेरा उसके साथ कोई मतभेद नहीं है। यदि सिद्धू को मुझसे किसी तरह की कोई समस्या है तो आप इस संबंधी उसे ही पूछो।’’

सिद्धू के इस्तीफ़े के मुद्दे पर मुख्यमंत्री ने कहा कि उनको बताया गया है कि इस्तीफ़ा चंडीगढ़ में उनकी रिहायश पर भेज दिया गया है परन्तु उन्होंने अभी यह इस्तीफ़ा देखना है। वह इस संबंधी कोई भी टिप्पणी करने से पहले इस्तीफ़ा पढ़ेंगे। लोकसभा चुनाव के बाद अपने मंत्रीमंडल के फेरबदल में 17 में से 13 मंत्रियों के विभाग बदलने का जि़क्र करते हुए कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने कहा कि सिद्धू ही एकमात्र ऐसा मंत्री है जिसको इससे समस्या हुई है। उन्होंने कहा कि फेरबदल का फ़ैसला मंत्रियों की कार्यशैली के आधार पर ही लिया गया था और सिद्धू को अपना नया विभाग स्वीकृत करना चाहिए था।

Join us on Telegram for more.
Fast news at fingertips. Everytime, all the time.
प्रदेशभर की हर बड़ी खबरों से अपडेट रहने CGTOP36 के ग्रुप से जुड़िएं...
ग्रुप से जुड़ने नीचे क्लिक करें

Related Articles

Back to top button