छत्तीसगढ़

बीमार बच्चों के इलाज के लिए विशेष शिशु देखभाल केन्द्र बना संजीवनी, अब तक 690 बच्चों को हो चुका है बेहतर उपचार

प्रदेश के कोण्डागांव जिला चिकित्सालय में स्थापित विशेष नवजात शिशु देखभाल केन्द्र ’नन्हें’ शिशुओं के उपचार लिए एक संजीवनी की भूमिका निभा रहा है। उल्लेखनीय है कि गतवर्ष 26 जनवरी को स्थापित इस केन्द्र में अब तक जिले के 690 शिशुओं का उपचार हो चुका है। जिला मुख्यालय में स्थित नन्हे शिशुओं के स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं का निराकरण होने से पालकों को अब महंगे उपचार से राहत मिलने से लोगों में खुशी व्याप्त है।

शासन की पहल पर जिले के दुरस्थ क्षेत्र के ग्रामीण अंचलों के नवजात शिशुओं में कम वजन, कमजोरी, सांस लेने संबंधी परेशानियां और स्वास्थ्य संबंधी अन्य समस्याओं का बेहतर उपचार के लिए जिला चिकित्सालय में विशेष नवजात शिशु देखभाल केन्द्र स्थापित किया गया है।

उक्त केन्द्र बनने के पूर्व प्रसव उपरान्त नवजात शिशुओं में पाई जाने वाले विकारों के उपचार के लिए आपात स्थिति में जगदलपुर मेडीकल काॅलेज रिफर करना पड़ता था। ऐसे विषम परिस्थितियों में पालकों के समक्ष शिशुओं के उपचार के लिए अन्यत्र शहर जाने के अतिरिक्त कोई विकल्प नही रहता था।

बता दें कि अब जिला चिकित्सालय में स्थित विशेष नवजात शिशु देखभाल केन्द्र में दो वेटीलेटर, 6 फोटो थेरेपी मशीन एवं ट्रांस्पोटिंग इक्यूबेटर सहित अन्य चिकित्सा उपकरण लगाये गये है। इस केेन्द्र में 12 शिशुओं को एक साथ रखे जाने की व्यवस्था है। इस विशेष शिशु देखभाल केन्द्र में दो चिकित्सक शिशु रोग विशेषज्ञ सहित 11 स्टाफ नर्से कार्यरत है।

|

Related Articles

Back to top button
Live Updates COVID-19 CASES