छत्तीसगढ़देश विदेशविशेष

दोनों तरफ लिखा हो भारत, सिक्का वही उछाला जाए, मंदिर में दीप जले तो मस्जिद तक उजाला जाए….. डॉ कुमार विश्वास ने रायपुर के कवी सम्मेलन में बाँधा समां

बुधवार की शाम शहर में काव्य रसों की धारा शिव भाई देश के कई हिस्सों से राजधानी पहुंचे ख्याति प्राप्त हुए ने अपने-अपने अंदाज में कविताएं पेश की। स्वराज एक्सप्रेस और lalluram.com की संयुक्त आयोजन में देश के ख्याति प्राप्त कवि डॉ कुमार विश्वास, पद्मश्री सुरेंद्र दुबे, मीर अली मीर, विनीत चौहान, रमेश मुस्कान, अंकिता सिंह, किशोर तिवारी एवं पदमालोचन शर्मा पहुंचे। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में छत्तीसगढ़ के राज्यपाल अनसूया उनके रही।

छत्तीसगढ़ के प्रख्यात सुरेंद्र दुबे की कविता ने गुदगुदाया –

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की अध्यक्षता में कवि सम्मेलन का आयोजन कल इंडोर स्टेडियम रायपुर में हुआ जिसमें प्रदेश के मंत्री गण भी शामिल हुए। रायपुर से बड़ी संख्या में लोग इस कवि सम्मेलन को सुनने पहुंचे थे। इस अवसर पर सुरेंद्र दुबे की कविता ने श्रोताओं को जमकर गुदगुदाया। सुरेंद्र दुबे ने शुरुआत करते हुवे मुख्यमंत्री के माता जी के देहावसान हो जाने पर कविता पढ़कर श्रद्धांजलि दी जिसे सुनकर सीएम भूपेश भी भावुक हो गए। उन्होंने कहा – धन, दौलत, इज्जत, पहचान सब छूकर जाती है लेकिन आज मां नहीं है, किसे बताएं मां बहुत याद आती है, जब आदमी जीतता है तो मां से कहता है, हारता है तो मां से कहता है, इसके साथ ही उन्होंने अपने छत्तीसगढ़ी गोठ व कविताओं से लोगों को जमकर हंसाया।

डॉ कुमार विश्वाश की एंट्री

कार्यक्रम में कुमार विश्वास की एंट्री ने श्रोताओं में जोश जगा दिया। देश के चहेते कवि डॉ कुमार विश्वास के ट्रैफिक में फंस जाने के कारण थोड़ा देरी से वे स्टेज पर पहुंचे, उन्होंने अपने उद्बोधन से लोगों को बहुत आकर्षित किया। डॉ विश्वास ने लोहिया जी के कथन से अतिथियों को संबोधित किया। उन्होंने कार्यक्रम की शुरुआत करते हुवे उन्होंने कहा – कहां तक पाला जाए, जंग कहां तक टाला जाए, तू भी है राणा का वंशज, फेंक जहां तक भाला जाए, दोनों तरफ लिखा हो भारत, सिक्का वह उछाला जाए और मंदिर में दीप जले तो मस्जिद तक उजाला जाए, इस कविता से उन्होंने अतिथियों को संबोधित किया जिसे सुनकर सभी श्रोता भी उत्साहित हो गए और तालियों की गड़गड़ाहट पूरा स्टेडियम गूंज उठा।

इस अवसर पर राज्यपाल अनुसुइया उइके ने कहा की कवि समाज के लिए दर्पण का काम करते हैं तो साथ ही सीएम बघेल ने कहा कि यह शहर हमेशा से ही कवियों के लिए आकर्षण का केंद्र रहा है यहां उन्हें हमेशा ही सम्मान और प्रेम मिला है और कवि जैसा सुनाते हैं वैसा ही यहां के श्रोता सुनते भी रहे हैं।

उन्होंने कहा सम्मेलन में सभी प्रकार के कवि पहुंचते हैं लेकिन कविता में जब तक नेताओं को छोड़ा नहीं जाता है वह सम्मेलन अधूरा ही रह जाता है। हम नेता भी हमेशा इसी को सुनते हैं।

आयोजित कवि सम्मलेन में गांधीवाद से लेकर एयर स्ट्राइक और वर्तमान राजनीतिक हालातों तक कई तरह कविताएं राजधानी के इनडोर स्टेडियम में सुनाई गई। कवि मीर अली मीर ने अपनी कविताओं में गांधीजी को याद किया और साथ ही उन्होंने अपनी नई रचना भी पढ़ी। उन्होंने उड़ा जाही का रे, उड़ा जाही का रे रचना भी पढ़ी।

रात जब डॉ विश्वास ने फिर थामा माइक

डॉ कुमार विश्वास ने फिर से एक बार स्टेडियम में बैठे लोगों को अपने रचना से सुनने पर मजबूर कर दिया रात लगभग 1:00 बजे कुमार विश्वास ने दोबारा से माइक पकड़ा और वर्तमान स्थितियों पर कटाक्ष करते हुए कई कविताएं पढ़ी साथ ही उन्होंने लड़के लड़कियों के बीच होने वाले भेदभाव को हास्य रस में बयान करते हुए कहा कि 3 लड़कियां स्कार्फ बांधकर जाए तो लू का कहर और 15 लड़के गिर पड़े तो खबर छपती के शराब पीकर मदहोश हो गए।

उन्होंने एक कविता पढ़ी और लोगों को खूब गुदगुदाया। एक अन्य कविता पर लोगों की खूब तालियां बजी –
मैं अपने गीत गजलों से उसे पैगाम करता हूं
उसी की दी हुई दौलत उसी के नाम करता हूं
हवा का काम है चलना, दिये का काम है जलना
वो अपना काम करती है, मैं अपना काम करता हूं।

वीर रस के कवि विनीत चौहान ने एयर स्ट्राइक के बाद अभिनंदन के कैद और वापसी पर अपनी कविता सुनाई तो अन्य कवियों ने छत्तीसगढ़ी और हिंदी में अपनी कविताओं का पाठ किया जिसे सुनकर श्रोता गण बारी-बारी से लोटपोट होते रहे। अनुच्छेद 370 और पाकिस्तान के मुद्दे पर भी अपनी कविताओं से लोगों को कवि गणों ने जमकर हंसाया। कवि किशोर तिवारी ने अपनी कविताओं से लोगों का मन मोह लिया।

Join us on Telegram for more.
Fast news at fingertips. Everytime, all the time.
प्रदेशभर की हर बड़ी खबरों से अपडेट रहने CGTOP36 के ग्रुप से जुड़िएं...
ग्रुप से जुड़ने नीचे क्लिक करें

Related Articles

Back to top button