छत्तीसगढ़

बेटियों को अपने अधिकारों के प्रति जागरूक होने की जरूरत: मंत्री भेंड़िया 

समाज में बेटियों को आगे बढ़ते देख लगता है अब बेटियों मे ताकत आ गई

लड़कियां अपनी प्रतिभा के बल पर हर क्षेत्र में पताका लहरा रही हैं। समाज में बेटियों को आगे बढ़ते देख लगता है अब बेटियों मे ताकत आ गई है,जो समाज को जागरूक करने के लिए पर्याप्त है। आगे बढ़ने और अपनी सशक्त उपस्थिति के लिए सभी बेटियों को अपने अधिकारों के प्रति जागरूक होने की जरूरत है।

महिला एवं बाल विकास मंत्री अनिला भेंड़िया आज राजधानी के शहीद स्मारक भवन में राष्ट्रीय बालिका दिवस के अवसर पर आयोजित प्रतियोगिताओं के पुरस्कार वितरण समारोह में बालिकाओं को संबोधित कर रहीं थीं। कार्यक्रम में भेंड़िया ने प्रतिभाशाली बालिकाओं और राज्य वीरता पुरस्कार के लिए चयनित बच्चों को सम्मानित किया गया।

इस अवसर पर महिला एवं बाल विकास द्वारा सुपोषण जागरूकता के लिए प्रकाशित ‘‘सुपोषण की ओर पोषण अभियान‘‘ पुस्तक का विमोचन भी किया गया। कार्यक्रम में रायपुर नगर निगम के महापौर एजाज ढेबर, विधायक रायपुर पश्चिम श्री विकास उपाध्याय, स्थानीय पार्षद तथा स्वर्गीय हेमचंद यादव दुर्ग विश्वविद्यालय की कुलपति डॉ. श्रीमती अरूणा पलटा, जिला विधिक प्राधिकरण के सचिव श्री उमेश उपाध्याय भी उपस्थित थे। 

मुख्य अतिथि की आसंदी से भेेंड़िया ने कहा कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के नेतृत्व में महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा महिलाओं के स्वास्थ्य,सुरक्षा,संरक्षण और सशक्तिकरण के लिए कई योजनाएं संचालित की जा रही हैं। शिविर,रैली, कार्यक्रमों के माध्यम से जन-जागरूकता के प्रयास भी किये जा रहे हैं। इसका प्रभाव देखने को मिल रहा है।

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान में रायगढ़ जिले ने पूरे देश में अपना स्थान बनाया है। यह खुशी की बात है कि समारोह स्थल में किये गए एनीमिया परीक्षण में अब तक 53 बालिकाओं में से सिर्फ 4 बालिकाएं गंभीर एनीमिया पीड़ित मिली हैं। इससे पता चलता है कि महिलााओं में स्वास्थ्य के प्रति जागरूकता बढ़ रही है।

महिलाओं के विरूद्ध बढ़ती हिंसा और दुराचार की घटनाओं के लिए उन्होंने कानून को और अधिक सख्त बनाने पर बल दिया। विधायक श्री विकास उपाध्याय ने बालिकाओं से आहवान किया कि वे पढ़-लिख कर निडर होकर आगे बढ़ें। महापौर ढेबर ने बेटियों को घर की असली पूंजी बताया। 

इस अवसर पर प्रधानमंत्री का इंटरव्यू लेने वाली प्रदेश की छात्रा श्रेया सिंह को भी सम्मानित किया गया। स्वास्थ्य विभाग द्वारा लगभग 650 बालिकाओं की एनीमिया जांच की गई। पोषण और स्वास्थ्य संबंधी आवश्यक जानकारी देने के साथ ही उद्यानिकी विभाग के द्वारा बालिकाओं को निःशुल्क मुनगा पौधे वितरित किए गए।

बच्चों के लिए स्थानीय अनाज और सब्जियों से बने पोषक आहार व्यंजन प्रतियोगिता तथा प्रदर्शनी का आयोजन किया गया। महिला बाल विकास विभाग की सहयोगी अशासकीय संस्था वर्ल्ड विजन के द्वारा सुपोषण को बढ़ावा देने के लिए शहर के 50 आंगनबाड़ी केन्द्रों को निःशुल्क गैस सिलेण्डर दिया गया है, कार्यक्रम में प्रतिकात्मक रूप से 5 आंगनबाड़ी की कार्यकर्ताओं ने अतिथियों से गैस सिलेण्डर प्राप्त किया।

इस अवसर पर बालिकाओं के उत्साहवर्धन के लिए रागी बैंड की बालिका कलाकारों ने रंगारग कार्यक्रम भी प्रस्तुत किया। कार्यक्रम में महिला बाल विकास, स्वास्थ्य विभाग एवं अशासकीय संस्थाओं के प्रतिनिधियों के साथ-साथ बड़ी संख्या में बालिकाएं उपस्थित थी। 

|

Related Articles

Back to top button