छत्तीसगढ़

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल शामिल हुए सांस्कृतिक संध्या में, संगीतज्ञ मदन सिंह चौहान का किया सम्मान

कार्यक्रम में देश भक्ति और छत्तीसगढ़ी लोक गीत संगीत की मनमोहक प्रस्तुति

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल आज गणतंत्र दिवस के अवसर पर महंत घासीदास संग्रहालय के मुक्ता काशी मंच में आयोजित सांस्कृतिक संध्या में शामिल हुए। मुख्यमंत्री ने इस मौके पर छत्तीसगढ़ के संगीतज्ञ मदन सिंह चौहान गुरूजी को कला के क्षेत्र में पद्मश्री सम्मान की घोषणा होने पर सम्मानित किया और उन्हें बधाई और शुभकामनाएं दी। मुख्यमंत्री ने लोक गायक श्री सुनील तिवारी का भी सम्मान किया।

इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने रायपुर के पुलिस परेड मैदान में निकाली गई झांकियों में प्रथम, द्वितीय और तृतीय स्थान प्राप्त करने वाले झांकी को पुरस्कार प्रदान किया। प्रथम पुरस्कार ग्रामोद्योग विभाग के झांकी को दिया गया। मुख्यमंत्री के हाथों पुरस्कार ग्रहण ग्रामोद्योग विभाग के सचिव हेमंत पहारे ने किया। इसी प्रकार द्वितीय पुरस्कार जेल विभाग के झांकी को मिला। पुरस्कार ग्रहण जेल विभाग के संजय पिल्ले और वन विभाग के झांकी को तृतीय पुरस्कार के लिए प्रधान मुख्य वन संरक्षक श्री राकेश चतुर्वेदी ने ग्रहण किया।

संस्कृति विभाग द्वारा आयोजित सांस्कृतिक संध्या में देश भक्ति और छत्तीसगढ़ संस्कृति की समूचे तीज त्यौहारों पर आधारित रंगारंग कार्यक्रम प्रस्तुत किया गया। सुश्री बॉबी मंडल ने देश भक्ति गीत वन्दे मातरम और नवनीत तिवारी ने जहां डाल डाल पर सोने की चिड़ियां करती है बसेरा गीत प्रस्तुत किया। गीत के साथ कलाकारों ने आकर्षक नृत्य भी प्रस्तुत किया।

छत्तीसगढ़ी गायक सुनील तिवारी और सहयोगी कलाकारों ने छत्तीसगढ़ के समूचे संस्कृति और तीज त्यौहारों पर आधारित गीत प्रस्तुत किया। गायक तिवारी और सहयोगी कलाकार ने छत्तीसगढ़ के राज्य गीत अरपा पैरी के धार, गौरा-गौरी, सुआ गीत, बिहाव गीत, पंथी, होली गीत, मोर संग चलव रे मोर संग चलव गा, भरथरी आदि गीत की प्रस्तुति दी। गीत के साथ कलाकारों ने आकर्षक नृत्य भी प्रस्तुत किया।

|

Related Articles

Back to top button