छत्तीसगढ़

रेल्वे कर्मचारियों की मदद से लगातार पेट्रोल डीजल और केरोसिन हो रही थी चोरी, ऐसे धर दबोचा पुलिस ने

पेट्रोल डीजल चोरी के मामले में रेलवे सुरक्षा बल ने एक और चौकाने वाला खुलासा किया है। पेट्रोल व डीजल चोरी के मास्टर माइंड और कोई नहीं, खुद रेलवे के ही कर्मचारी निकले। रेलवे के नुमाइंदे ही चोरों को पेट्रोल-डीजल के बैगन आने की सूचना फोन से दिया करते थे। चोरों की निशानदेही पर आरपीएफ के जवानों ने रेलवे के दो कर्मचारियों को गिरफ्तार किया है। रेलवे अधिनियम की धारा 3 आरपी-यूपी के तहत तेल चोर व रेलवे कर्मचारियो ंको गिरफ्तार कर कार्रवाई कर रही है।

रेलवे सुरक्षा बल के अनुसार डीजल पेट्रोल चोरों की तलाश के दौरान आरपीएफ पोस्ट प्रभारी विरेन्द्र कुमार व जवानों को कुछ अहम सुराग हाथ लगे थे। उन सूचनाओं की पुष्टि करने निकली टीम के हाथ दो युवक बिलाल अंसारी व सोना सोनवानी लग गए। दोनों झाडिय़ों के बीच से डीजल से भरा जेरीकेन निकाल कर ले जा रहे थे। बिलाल व सोना से जब डीजल संबंधी दस्तावेज मांगे गए। इस पर दोनों डीजल चोरी का होना स्वीकर किया। साथ ही बताया कि उनके कुछ साथी कुछ दूर पर उनका टाटा मैजिक में इंतजार कर रहे हैं।

आरपीएफ सहायक पोस्ट प्रभारी विरेन्द्र कुमार अपनी टीम के साथ दोनों युवकों को साथ लेकर गाड़ी के पास पहुंचे और 4 अन्य इमानवेल पीटर उर्फ पप्पू, जैनिल मसीह उर्फ जैन्टो, मो. इस्लाम उर्फ हलीम व गौकरण राज उर्फ लम्बू को भी गिरफ्तार कर लिया। पोस्ट में लाकर जब 6 लोगों से बारी बारी पूछताछ की गई तो वह दो नाम भी सामने आ गए, जिनके मार्ग दर्शन में चोर गिरोह पूरी वारदात को अंजाम देते थे। वह कोई और नहीं बल्कि रेलवे के कर्मचारी ही निकले।

बताया जा रहा है कि एक बोर्ड कंट्रोलर के अंडर में टीओ कर्लक स्वराज नाग चौधरी व दूसरा तिफरा ब्रिज फाटक केबिन में पाइंट मैन डनिल्ड विलियम उर्फ दानू ही आरोपियों को फोन पर डीजल या पेट्रोल से भरी वैगन की सूचना दिया करते थे। साथ ही ट्रेन को संबंधित जगह पर रोका भी करते थे। इसके बदले दोनों को तेल चोर रैक के हिसाब से दोनों को रुपए दिया करते थे। तेल चोरों की निशानदेही पर आरपीएफ ने दोनों रेलवे कर्मचारियों को गिरफ्तार कर लिया है।

कैसे रुकती थी वैगन :

रायपुर या अन्य जगह से पेट्रोल या डीजल के जो वैगन बिलासपुर आते थे, उनकी जानकारी होने के बाद टीओ कर्लक स्वराज नाग चौधरी फोन पर पेट्रोल चोरों व तिफरा ब्रिज के पाइंटमैन को वैगन आने की सूचना दे देता था। सूचना मिलते ही पेट्रोल चोर व पाइंटमैन सर्तक हो जाते थे और ट्रेन जब तिफरा ओवर ब्रिज क्रास कर इंद्रपुरी के पास पहुंचती थी पाइंट मैन के इशारे पर पेट्रोल मैन पाइट में पत्थर फंसा देते थे। रूट क्लिीयर न होने के कारण आरआरआई कैबिन ट्रेन को रोक देता था। जब तक मरम्मत कार्य चलता, उस दौरान तेल चोर आसानी से वारदात को अंजाम देते थे।

बोर्ड कंट्रोलर के अस्सिटेंट होने का उठाता था फायदा :

एक बोर्ड कंट्रोलर के अंडर में 17 से 18 स्टेशन होते थे। इस कारण कोई भी ट्रेन आती तो पता स्वराज नाग चौधरी को पहले ही पता चल जाता था किन ट्रेन सवारी गाड़ी है या फिर कोयला या तेल से भरे हुए हैं और किस रूट पर जाएंगे। स्वराज इस बात का फायदा उठाता था और तेल चोर गिरोह को इसकी सूचना देता था। सूचना के आधार पर ट्रेन आने से पहले ही चोर गिरोह सक्रिय हो जाते थे।

पर वैगन तय होता था रेट :

तेल चोरी के इस गोरख धंधे में रेलवे कर्मचारियों के रेट फिक्स थे। टीओ कर्लक स्वराज नाग चौधरी को प्रति रैक दस हजार व पाइंटमैन दानू को 5 हजार रुपए के अनुसार दिया जाता था। चोरों की माने तो सालों से यह गोरख धंधा संचालित हो रहा था। रेलवे कर्मचारियों की मिली-भगत होने के कारण आरोपी आरपीएफ के हत्थे नहीं लग रहे थे।

मुख्य सरगना फरार :

तेल चोरी का मास्टर माइंड बाबू उर्फ असलम पिता मुलतान ने ही स्वराज नाग चौधरी व दानू विलियम से मुलाकात कर तेल चोकी की योजना में शामिल किया था। प्रति रैक रकम की लालच में आक र ही दोनों ने वारदात में शामिल होने व आरोपी बाबू की मदद के लिए तैयार हुए थे दोनों ने बयान में यह स्वीकर भी कर लिया है। आरपीएफ के जवानों ने सभी को गिरफ्तार कर लिया लेकिन उनकी पकड़ से अब भी बाबू असलम दूर है।

तेल चोरी के खिलाड़ी अब हुए गिरफ्तार

स्वराज नाग पिता स्व. एमएसएम चौधरी (42) लिपिक परिचालन विभाग बिलासपुर एसईसीआर, रेलवे मकान नं-743/ ए कन्स्ट्रक्शन कॉलोनी।ठ्ठ डनिल्ड विलियम उर्फ दानू पिता स्व. इम्मानुवेल विलियम (53) टीए 1 परिचालन विभाग घासीदास मंदिर के पास तारबाहर। बिलाल अंसारी पिता स्व. युसुफ अंसारी ( 25) अटल आवास आर के नगर। इमानवेल पीटर उर्फ पप्पू पिता पटक पीटर (23) ओमनगर जरहाभाठा । जैनिल मसीह उर्फ जेन्टो पिता स्व. जारडन मसीह (20) रिंग रोड 2 मो. इस्लाम उर्फ हलीम पिता मो. आरीफ (23) शारदा नगर तालापारा* सोना सोनवानी पिता स्व. बिरजू सोनवानी (24) मसीह टेन्ट के पास तारबाहर। गौकरण राज उर्फ लम्बू पिता आदि प्रसाद राज आदि प्रसाद राज (23) ग्राम बैजलपुर मुंगेली।

सूचना पर दी गई दबिश

पेट्रोल चोरी की जांच के दौरान पता चला की तेल चोर गिरोह के सदस्य पुन: तेल चोरी करने की योजना बना रहे हैं। सूचना पर जब दबिश दी गई तो दो युवक और फि र उनके साथ गिरफ्तार हुए। जिन्होंने बताया कि 12 मार्च को ही डीजल चोरी किया था, उसे विभिन्न झाडिय़ों में छिपाया गया था। उन्होंने रेलवे कर्मचारियों के शामिल होने की बात भी बताई। दोनों की निशानदेही पर रेलवे कर्मचारियों को भी गिरफ्तार किया गया है। दोनों ने अपराध स्वीकार कर लिया है।-विरेन्द्र कुमार, सहायक उप निरीक्षक रेलवे सुरक्षा बल उसलापुर

|

Related Articles

Back to top button
Live Updates COVID-19 CASES