छत्तीसगढ़

बलरामपुर में दो नाबालिग लड़कियों को दिल्ली ले जाकर बेचने का मामला, आरोपी गिरफ्तार

बलरामपुर जिले के ग्राम डौरा से परीक्षा का फार्म भरने स्कूल जा रही दो नाबालिग छात्राओं को बेचने का मामला सामने आया है। पुलिस ने छात्राओं के परिजनों की रिपोर्ट पर मामला दर्ज कर एक महिला समेत तीन आरोपियों को गिरफ्तार करने में सफलता हासिल की है और आरोपियों के कब्जे से दोनों छात्राओं को दिल्ली से बरामद भी कर लिया है।

प्रेसवार्ता में पुलिस अधीक्षक ने मामले का खुलासा करते हुए बताया की 5 नवंबर 2018 को दो छात्राएं घर से स्कूल के लिए परीक्षा फार्म भरने के लिए निकली थीं लेकिन उसके बाद वापस नहीं लौटी,परिजनों ने जब छात्राओं का पता लगाया तो छात्राओं का पता नहीं चल सका,इस पर परिजनों ने छात्राओं के गुमशुदगी की रिपोर्ट डौरा थाने में दर्ज कराई।

पुलिस ने गुमशुदगी का मामला दर्ज कर विवचेना आगे बढाया तो छात्राओं की गुमशुदा होने के तार दिल्ली से जुड़ा पाया गया। पुलिस को पता चला की तौसिफ अंसारी नाम के आरोपी ने दोनों छात्राओं को बहला फुसलकार काम दिलाने के बहाने अपने साथ ले गया और उन्हें दिल्ली में ले जाकर बेच दिया।

छात्राओं को बेचने के इस काम में तौसिफ का साथ संजीता बडा और संतोष बडा ने दिया। तीनों ने मिलकर छात्राओं को दिल्ली में 25-25 हजार में बेच दिया था और इन पर सख्त निगरानी रख रहे थे। जहां छात्राओं को बेचा गया था वहां उनसे मजदूरी कराई जाती थी और पैसे भी नहीं दिए जा रहे थे।

पुलिस ने तौसिफ अंसारी को हिरासत में लेकर कार्रवाई शुरू की और दिल्ली ले जाकर छात्राओं को आजाद कराया। मामले में पुलिस ने तीनों आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया और छात्राओं का मेडिकल चेकअप कराने के बाद उन्हें परिजनों को सौंप दिया गया है।

|

Related Articles

Back to top button