छत्तीसगढ़

कृषक सम्मान समारोह में कृषि मंत्री चौबे ने कहा- किसानों का सम्मान कर स्वयं गौरवान्वित अनुभव कर रहा हूँ

कृषि मंत्री रविन्द्र चौबे ने आज यहां कृषि महाविद्यालय, रायपुर के सभागार में कृषक समृद्धि किसान सम्मान समारोह को संबोधित किया। चौबे ने कहा कि छत्तीसगढ़ का मेहनतकश किसान अपना सारा जीवन मौसम की सारी प्रतिकूलताओं से संघर्ष करते हुए दूसरों का पेट भरने में समर्पित कर देता है। स्वयं किसान होने के करण मैं इनके दर्द को अच्छी तरह समझ सकता हूँ। माटी के इन सपूतों का सम्मान एक बहुत ही पुनीत कार्य है। ये मेहनतकश किसान सम्मान के वास्तविक हकदार हैं और इनके सम्मान से एक नयी स्वस्थ परंपरा की शुरूआत हुई है। किसानों का सम्मान करते हुए मैं स्वयं को गौरवान्वित महसूस कर रहा हूं।

चौबे ने इस अवसर पर इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय एवं कामधेनु विश्वविद्यालय एवं कृषि, उद्यानिकी एवं संबंधित विभागों के अधिकारियों से किसानों तक कृषि अनुसंधानों एवं शासकीय योजनाओं का अधिक से अधिक लाभ पहुंचाने का आव्हान किया।

उन्होंने किसानों का सम्मान करने के लिए कृषक समृद्धि पत्रिका समूह को बधाई और शुभकामनाएं दी। समारोह की अध्यक्षता इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. एस.के. पाटील ने की।

कृषि मंत्री ने इस अवसर पर कहा कि हमारे पुरखों ने छत्तीसगढ़ राज्य की परिकल्पना एक कृषि प्रधान राज्य के रूप में की थी। मौसम की प्रतिकूलताओं तथा बाजारवाद के चलते किसानों की हालत बहुत अच्छी नहीं है लेकिन हमारी सरकार ने किसानों की बेहतरी के लिए हरसंभव प्रयास किया है। उनके पुराने कृषि ऋिण माफ करने के साथ ही धान का समर्थन मूल्य 25 सौ रूपये प्रति क्विंटल करते हुए उनकी उपज का हर एक दाना क्रय किया गया।

नरवा, गरूआ, घुरवा और बाड़ी योजना का क्रियान्वयन करते हुए नदी-नालों का संरक्षण तथा गौठानों का निर्माण किया जा रहा है। राज्य सरकार ने किसानों के लिए खाद बीज की पुख्ता व्यवस्था की है। नकली खाद एवं दवाई विक्रेताओं पर सरकार लगातार कार्यवाही कर रही है। राज्य में अल्प वर्षा की स्थिति को देखते हुए सूखे से निबटने के लिए कार्ययोजना तैयार की गई है।

उन्होंने कहा कि किसानों की आय बढ़ाने खेती-किसानी की लागत कम करना जरूरी है। इसके लिए कृषि क्षेत्र में नये-नये प्रयोग, शोध और अनुसंधान की नई परम्परा शुरू हो गई है। छत्तीसगढ़ के किसानों को भी नये प्रयोगों और अनुसंधानों का फायदा मिलेगा। 

|

Related Articles

Back to top button