छत्तीसगढ़

एच.आई.व्ही. संक्रमितों के शरीर में दवाईयों का असर जांचने राज्य की पहली मशीन का लोकार्पण कल

स्वास्थ्य मंत्री श्री टी.एस. सिंहदेव एच.आई.व्ही. वायरल लोड टेस्टिंग सेंटर का करेंगे उद्घाटन, मिलेगी निःशुल्क जांच की सुविधा

स्वास्थ्य मंत्री टी.एस. सिंहदेव 11 जुलाई को रायपुर मेडिकल कॉलेज में एच.आई.व्ही. वायरल लोड टेस्टिंग सेंटर का लोकार्पण करेंगे। पं. जवाहर लाल नेहरू स्मृति चिकित्सा महाविद्यालय, रायपुर के द्वितीय तल स्थित माइक्रोबायोलॉजी विभाग में स्वास्थ्य विभाग, मेडिकल कॉलेज और छत्तीसगढ़ राज्य एड्स नियंत्रण सोसाइटी द्वारा सवेरे 11 बजे लोकार्पण कार्यक्रम का आयोजन किया गया है।

कार्यक्रम में रायपुर ग्रामीण के विधायक सत्यनारायण शर्मा, रायपुर उत्तर के विधायक कुलदीप जुनेजा और रायपुर पश्चिम के विधायक विकास उपाध्याय विशिष्ट अतिथि के रूप में शामिल होंगे।

मेडिकल कॉलेज में एच.आई.व्ही. वायरल लोड टेस्टिंग मशीन लगने के बाद अब एच.आई.व्ही. संक्रमित व्यक्तियों के शरीर में वायरल लोड की जांच रायपुर में ही हो जाएगी। पहले इसकी जांच के लिए ब्लड सेंपल मुंबई या कोलकाता भेजना पड़ता था।

एच.आई.व्ही. संक्रमितों को सेंटर में इस जांच की सुविधा निःशुल्क मिलेगी। वायरल लोड टेस्टिंग एच.आई.व्ही. संक्रमितों के बेहतर इलाज के लिए प्रभावी प्रबंधन की नई तकनीक है।

एच.आई.व्ही. वायरल लोड टेस्टिंग मशीन से शरीर में एच.आई.व्ही. वायरस की मात्रा की जांच की जा सकती है। एंटी रेट्रो वायरल दवाईयों का शरीर में कितना असर हो रहा है, इसका पता भी इस मशीन से लगाया जा सकता है।

राष्ट्रीय एड्स नियंत्रण संस्था (NACO – National Aids Control Organization) द्वारा सभी राज्यों को एच.आई.व्ही. वायरल लोड टेस्टिंग मशीन दी गई है। छत्तीसगढ़ में यह पहली और एकमात्र मशीन है जिससे एड्स पीड़ितों में एच.आई.व्ही. संक्रमण की गंभीरता की मात्रात्मक जानकारी मिल सकेगी।

इसका संचालन रायपुर मेडिकल कॉलेज के माइक्रोबायोलॉजी विभाग द्वारा किया जाएगा। एच.आई.व्ही. संक्रमितों की बेहतर देखभाल और उनके उपचार के प्रभावी प्रबंधन में यह सेंटर बेहद कारगर साबित होगा।

छत्तीसगढ़ में एच.आई.व्ही. पीड़ितों के लिए निःशुल्क सेवाओं और इलाज का दायरा बढ़ने के साथ ही उनकी जीवन प्रत्याशा बढ़ाने में वायरल लोड टेस्टिंग सेंटर से खासी मदद मिलेगी।

|

Related Articles

Back to top button