छत्तीसगढ़

उत्पाती दंतैल को काबू करने वन विभाग का ऑपरेशन गणेश आज से, कुमकी हाथी का दल करेगा नियंत्रित

कई लोगों की जान लेकर धरमजयगढ़ से कोरबा के बीच दहशत का पर्याय बन चुके उत्पाती दंतैल को काबू करने वन विभाग का ऑपरेशन गणेश आज से एक्टिवेट हो जाएगा। इसके लिए खास कर्नाटक से बुलाए गए कुमकी हाथी महावत समेत करतला परिक्षेत्र में बनाए गए अस्थायी रेस्क्यू सेंटर पहुंच गए।

इस ऑपरेशन में गंगा, योगलक्ष्मी व परशुराम नामक तीन प्रशिक्षित कुमकी हाथी की मदद से गणेश को नियंत्रित किया जाएगा, ताकि उसे पिंगला स्थित हाथी रेस्क्यू सेंटर शिफ्ट किया जा सके।

सरगुजा वन वृत्त के सूरजपुर वनमंडल अंतर्गत रमकोला से लगे बड़े वन क्षेत्र में हाथी राहत एवं पुनर्वास केंद्र (रेस्क्यू सेंटर) की स्थापना किया गया है।

गौरतलब है कि इस केंद्र में कर्नाटक से लाए गए पांच कुमकी हाथी रखे गए हैं जिन्हें क्षेत्र में उत्पात मचाने वाले हाथियों को काबू करने के उद्देश्य से मंगाया गया इनमें से तीन कुमकी हाथी गंगा, योगलक्ष्मी व परशुराम रामकोला से लगे पिंगला से सूरजपुर, भैयाथान व चोटिया होते हुए कोरबा के करतला में पहुंच गए हैं।

दंतैल गणेश

कोरबा व धरमजयगढ़ के सीमावर्ती गांव में करीब एक दर्जन लोगों की मौत का कारण बन चुके उत्पाती हाथी गणेश की दहशत खत्म करने इन कुमकी हाथियों को लाया गया है। करतला पहुंचने के बाद आज से ऑपरेशन गणेश शुरू कर दिया जाएगा।

बता दें कि वन्य प्राणी विशेषज्ञों की मौजूदगी में गणेश की लोकेशन ट्रेस की जाएगी। ऑपरेशन को सफलतापूर्वक अंजाम देने जरूरी परिस्थितियां मिलने पर ही गणेश को काबू करने की प्रक्रिया अपनाई जाएगी।

इसके बाद उसे पकड़कर पिंगला स्थित हाथी रेस्क्यू सेंटर भेज दिया जाएगा, ताकि इन क्षेत्रों से गणेश की दहशत दूर कर ग्रामीणों को राहत प्रदान की जा सके। तीन अलग-अलग ट्रक में सवार कर लाए गए तीनों कुमकी हाथी करतला पहुंच गए है।

|

Related Articles

Back to top button