CGTOP36छत्तीसगढ़

हमर अँचरा कार्यक्रम से सुधरी बगीचा की तस्वीर, छग के सबसे ज्यादा और खूबसूरत पर्यटन स्थलों में बगीचा विकासखण्ड

अजय सूर्यवंशी जशपुर – यूं तो जशपुर को छत्तीसगढ़ का शिमला कहा जाता है इसकी खास वजह है जशपुर के पठारी और मैदानी इलाकों में  स्थित दो दर्जन से अधिक पर्यटन स्थल। जशपुर जिले में सबसे ज्यादा और खूबसूरत पर्यटन स्थल बगीचा विकासखण्ड में स्थित हैं अब इन पर्यटन स्थलों को सहेजने और संवारने की पहल महिला एसडीएम ने शुरू की है।

जशपुर के बगीचा अनुविभाग की एसडीएम ज्योति बबली कुजूर ने बगीचा अनुविभाग में हमर अँचरा कार्यक्रम की शुरुआत की है।हमर अँचरा कार्यक्रम क्राउड फंडिंग से संचालित किया जा रहा है और इस कार्यक्रम के तहत 11 अलग अलग बिन्दूओं पर काम किया जाना है।उसी में से एक है हमर बगीचा सुघ्घर बगीचा। बगीचा क्षेत्र में आधा दर्जन से अधिक झरने समेत दर्जनों पर्यटन स्थल हैं इनमें से अधिकांश पर्यटन स्थलों में  बुनियादी सुविधाओं का अभाव है अगर इन पर्यटन स्थलों में बुनियादी सुविधाओं का विस्तार किया जाए तो निश्चित तौर पर यहाँ पर्यटकों की संख्या बढ़ेगी और पर्यटकों की संख्या बढ़ने पर रोजगार के अवसर भी बढ़ेंगे।

दरअसल बगीचा क्षेत्र में प्रदेश का सबसे ऊंचा जलप्रपात मकरभंजा समेत राजपुरी, दरावघाघ, कैलाश गुफा के अलखनंदा जलप्रपात समेत कई ऐसे पर्यटन स्थल हैं जहाँ सुविधाओं के विस्तार से पर्यटन के बढ़ने के आसार हैं इन्ही सब बातों को ध्यान मे रखते हुए एसडीएम ज्योति बबली कुजूर ने “हमर अँचरा ” कार्यक्रम के अंतर्गत हमर बगीचा सुघ्घर बगीचा के माध्यम से पर्यटन स्थलों को एक विशेष पहचान दिलाने की कोशिश की है।इन पर्यटन स्थलों में बिजली सड़क पानी के साथ चौपाटी एवं अन्य कई चीजों के विस्तार की पहल शुरू की है जिसका उद्घाटन जशपुर कलेक्टर महादेव कावरे और विधायक विनय भगत ने फीता काटकर शुभारंभ किया है।

हमर अँचरा कार्यक्रम के अन्तर्गत क्राउड फंडिंग के जरिये लाखो का फंड इकट्ठा किया जा रहा है और इसके लिए जनप्रतिनिधि, स्थानीय निवासी, अधिकारी कर्मचारी समेत समाज का हर वर्ग दिल खोलकर सहयोग कर रहा है।”हमर अँचरा” के लिए क्राउड फंडिंग जुटाने एसडीएम ज्योति बबली कुजूर की अगुवाई में टीम सड़को पर उतरकर गाँव गाँव तक घूम रही है और जनसहयोग से इस कार्यक्रम में शयोगवकी अपील कर रही है “हमर अँचरा” के लिए अब तक जनसहयोग से 20 लाख रुपये से अधिक का फंड इकठ्ठा कर लिया गया है और इन्ही पैसो से 11 बिंदुओं पर काम शुरु कर दिया गया है।

बगीचा सुघ्घर बगीचा” के अंतर्गत अब बगीचा विकासखण्ड के कई पर्यटन स्थलों की तस्वीर बदलने की कवायद भी शुरू हो चुकी है।सबसे पहले बगीचा के सबसे ऊंचे चट्टान में आकर्षक लाइटिंग के साथ बगीचा शहर से महज दो किलोमीटर दूर राजपुरी जलप्रपात में बिजली व्यवस्था भी शुरू कर दी गयी है अब देर रात तक भी पर्यटक यहाँ पहुँचकर जलप्रपात के खूबसूरत नजारे का आनंद ले सकते हैं।

इसके अलावा प्रदेश के सबसे ऊंचे मकरभंजा जलप्रपात में सड़क एवं अन्य बुनियादी सुविधाओं पर भी जल्द ही काम शुरु कर लिया जाएगा।बगीचा विकासखण्ड के पंडरापाठ में सालो से बन्द पड़े अधूरे “कोरवा कॉटेज” (रिसार्ट) को भी व्यवस्थित कर पर्यटकों के रुकने के लिए तैयार किये जाने की योजना भी बन रही है।बहरहाल एसडीएम की पहल से जल्द ही बगीचा विकासखण्ड के पर्यटन स्थलों की तस्वीर बदलने की उम्मीद है।

Join us on Telegram for more.
Fast news at fingertips. Everytime, all the time.
प्रदेशभर की हर बड़ी खबरों से अपडेट रहने CGTOP36 के ग्रुप से जुड़िएं...
ग्रुप से जुड़ने नीचे क्लिक करें

Related Articles

Back to top button